सीतापुर। जहां एक तरफ प्रदेश की योगी सरकार भू माफियाओं पर शिकंजा कसने की बात कह रही है। वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के सीतापुर में भू माफिया द्वारा बगैर किसी खौफ के धड़ल्ले से नदी नाले को पाटकर कालोनियां बनाई जा रही हैं। राजधानी लखनऊ से महज 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सीतापुर में आजकल भू माफिया हावी हैं। यहां शाहजहांपुर बाईपास पर बनाई जा रही के केशव ग्रीन सिटी कॉलोनी जोकि महायोजना के मास्टर प्लान के नक्शे में सरकारी भूमि के रूप में दर्ज है। उसमें दबंग भू माफियाओं के द्वारा सरायन नदी ओर पेरई नदी को पाटकर और जंगल झाड़ियों को काटकर प्लाटिंग कर दी गई और इतना ही नहीं भू माफिया के हौसले इतने बुलंद है की एक लाख 32 हजार की हाई वोल्टेज बिजली लाइन के नीचे बच्चों के पार्क और मकान बना दिए गए हालांकि सिटी मजिस्ट्रेट ऑफिस और बिजली विभाग की तरफ से कई बार इनको नोटिस दी गई है लेकिन नतीजा नहीं निकला।

भू माफियाओं द्वारा लगातार नदी का अस्तित्व खत्म किया जा रहा है और यदि सूत्रों की मानें तो नदी के गाटा संख्या को भी प्लाट के रूप में दर्शा कर उसे बेच दिया गया है वहीं इस मामले में जिला प्रशासन कार्रवाई करने की बात को कह रहा है।