अयोध्या। आज चंद्र ग्रहण के बाद मंदिरों के कपाट भोर में खुले। ग्रहण के मोक्षकाल के बाद श्रद्धालुओं ने सरयू में स्नान कर अपने आराध्य भगवान का दर्शन पूजन किया।आज से सावन मास भी लग रहा है। इसलिए श्रद्धालु सरयू में स्नान करने के बाद शिवालयों में जलाभिषेक करने भोलेनाथ के दरबार में पहुंचे। बड़ी संख्या में भक्तों ने भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक किया और अपने मनोकामना की पूर्ति की आशीर्वाद मांगा।

सावन माह के पहले दिन राम नगरी शिवभक्ति में लीन दिख रही है। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन नगरी अयोध्या में शिव भक्तों का जन सैलाब उमड़ रहा है। शिवभक्त पवित्र सरयू नदी में स्नान करने के साथ ही सरयू तट के किनारे राम की पैड़ी में स्थित 108 ज्योतिर्लिंग में से 1 ज्योतिर्लिंग प्राचीन नागेश्वर नाथ महादेव मंदिर में जलाभिषेक करने के लिए कतारबद्ध होकर शिव भक्त दर्शन और पूजन का पुण्य अर्जित कर रहे हैं। प्रदेश के अलग-अलग शिव मंदिरों में दर्शन और पूजन का सिलसिला जारी है तो इसी कड़ी में प्राचीन नागेश्वरनाथ मंदिर में भी परंपरागत रूप से प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी शिवभक्त कांवरियों की भीड़ जमा हो गई है। अयोध्या में शिवभक्तों की भारी भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए हैं। वही चंद्र ग्रहण के मोक्षकाल की समाप्ति के बाद मंदिरो के कपाट खुल गए है। भक्त आज पूर्व की भांति अपने भगवान का दर्शन पूजन कर रहे है।