अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के MBA एंट्रेंस का पेपर हुआ आउट, पुलिस ने चार मुन्नाभाईयो को दबोचा, मौके से पुलिस ने पेपर किया बरामद, यूनिवर्सिटी का वाटर बॉय ही निकला मास्टर माइंड, व्हाट्सएप ग्रुप के जरिये होता था पेपर की सौदेबाजी, अलीगढ़ की एक कोचिंग सेंटर भी जांच की राडार में, शामिल होने के पुख्ता सबूत पुलिस के पास, कोचिंग के जरिये स्टुडेंट्स से होती थी खरीद फरोख्त, पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को भेजा जेल, अन्य चार की तलाश जारी, एसएसपी अलीगढ़ ने प्रेसवार्ता कर दी मीडिया को जानकारी ।

एएमयू में रविवार को बीटेक/बीआर्क व एमबीए, एमबीए (आइबी) व एमबीए (इस्लामिक बैंकिंग एंड फाइनेंस) की प्रवेश परीक्षा थी। परीक्षा के लिए एएमयू में 11 केंद्र बनाए गए थे। कोलकाता व कोङिाकोड में भी केंद्र थे। सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक हुई परीक्षा में 2843 अभ्यर्थी शामिल हुए। 3574 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। फैकल्टी ऑफ सोशल साइंस में बनाए गए केंद्र पर गैरहाजिर रहे 731 अभ्यर्थियों के पेपर गिने गए  तो उसमे एक पेपर कम निकला, तब पेपर गायब होने के बारे में जानकारी हुई।  परीक्षा ड्यूटी अधीक्षक प्रो. अफ्फत असगर ने डेलीवेजर क्लरिकल तारिक खान से पूछताछ की तो तब उसने पेपर उपलब्ध कराया। तारिक से पूछताछ हुई तो पता चला कि पेपर को वाटर ब्वॉय (परीक्षा के दौरान पानी पिलाने वाले) मोहम्मद इरशाद ने सोशल साइंस संकाय की छत पर फेंक दिया था। मोहम्मद इरशाद से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि पेपर को उसने कक्ष संख्या एफए-05 से चोरी कर सफेद रंग की टाटा सफारी में आए बसपा नेता फिरोज आलम उर्फ राजा को दिया था। गाड़ी में AMU का पूर्व छात्र हैदर भी था। इंतजामिया की शिकायत पर पुलिस ने चारों को पकड़ लिया।  अगर प्रश्नपत्र गिने नहीं जाते तो भेद नहीं खुल पाता। गायब प्रश्नपत्र को मास्टरमाइंड फिरोज खान उर्फ राजा तक पहुंचाया गया था। उसने सॉल्व करने की व्यवस्था अहमद अपार्टमेंट जामिया उर्दू रोड के फ्लैट संख्या 08 में की थी।  पुलिस अब इन चारों के अलावा रैकेट में शामिल अन्य लोगों की तलाश कर रही है। इसके लिए देर रात में इन आरोपियों को लेकर कई जगह छापेमारी की गई।