bhu

वाराणसी। काशी हिंदू विश्‍वविद्यालय में दलित शोध छात्राओं से जबरन टॉयलेट साफ कराने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में बीएचयू प्रशासन ने जांच कमेटी गठित कर जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

बीएचयू के महिला महाविद्यालय के गृह विज्ञान विभाग में बीते मार्च महीने में संगोष्‍ठी आयोजित की गई थी। आरोप है कि इस दौरान विभाग की एक शिक्षिका ने सफाईकर्मी के रहते दो शोध छात्राओं से जबरन टॉयलेट साफ करवाया।

जानकारी के अनुसार दो छात्राओं में से एक अनुसूचित जाति की और दूसरी अनुसूचित जनजाति की है। इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब छात्राओं से टॉयलेट साफ कराने वाली शिक्षिका की प्रताड़ना से आजीज आकर एक गैर शिक्षण कर्मचारी ने नेशनल कमिशन फॉर शेड्यूल ट्राइब्‍स के अध्‍यक्ष और विश्‍वविद्यालय के कुलपति को पत्र लिखा।

इस पत्र में शिक्षिका पर लगातार अमर्यादित व्‍यवहार और जाति सूचक शब्‍द प्रयोग करने का आरोप लगाया गया है। सूत्रों के मुताबिक नेशनल कमीशन की ओर से सवाल-जवाब किए जाने पर बीएचयू प्रशासन ने कमेटी गठित कर जांच शुरू कर दी है।

हालांकि पीआरओ डॉ. राजेश सिंह ने ऐसी किसी घटना की जानकारी होने से इनकार किया है।